Pollution Essay in Hindi 200 Words। प्रदूषण पर हिन्दी में निबंध

 नमस्कार दोस्तों, आज हम प्रदूषण पर एक निबंध देखने जा रहे हैं। प्रदूषण वातावरण में प्रदूषकों का मिश्रण है। जब प्रदूषक इस प्राकृतिक संसाधन में मिल जाते हैं। तो उस जगह पर बहुत सारे नकारात्मक प्रभाव होते हैं। इससे प्रदूषण होता है। यह मानव जीवन के लिए बहुत बड़ा खतरा है। प्रदूषण हमारे पूरे पारिस्थितिकी तंत्र को प्रभावित करता है। प्रदूषण हमेशा इंसानों को छोटी-मोटी बीमारियों का कारण बनता है।

Pollution essay in hindi

Pollution Essay in Hindi 150 Words

बचपन में हम गर्मी की छुट्टियों में अपनी दादी के घर जाया करते थे। उस समय हम हरे-भरे बगीचों में खेलने का अलग ही मजा लेते थे। पार्टियों का चहकना और यह उस समय भी बहुत अच्छा लगता होगा। अब वो मंजर कहीं नजर नहीं आता, आजकल किताबों तक ही सिमट कर रह गया है।

 यदि यह दृश्य आज के बच्चों के लिए देखा जाता, तो वे इसे केवल किताबों में ही देख पाते। कल्पना कीजिए कि ऐसा क्यों हुआ क्योंकि सभी कार्बनिक और अकार्बनिक तत्व जैसे पौधे, पशु, पक्षी, जल, वायु आदि पर्यावरण में एक साथ बनते हैं। यह एक तैयार वातावरण भी बनाता है। पर्यावरण में प्रत्येक व्यक्ति का एक विशिष्ट स्थान होता है।

आज कल मनुष्य अपने स्वार्थ के लिए वृक्षों को अंधाधुंध काट रहा है। जिससे माहौल असंतुलित हो गया है। प्रदर्शनियां ऐसी ही होती हैं और उनकी एक बड़ी वजह होती है। जब इनमें से कुछ तत्व हवा, पानी और मिट्टी में कुछ हद तक घुल जाते हैं।

इसलिए वे हमेशा उस जगह के वातावरण को प्रदूषित कर रहे हैं। इसके गंभीर स्वास्थ्य परिणाम हो सकते हैं। इसलिए इसे प्रदूषण कहते हैं। प्रदूषण प्राकृतिक असंतुलन पैदा करता है। यह मानव जीवन के लिए बहुत बड़ी खतरे की घंटी है।

आजकल मानव का यह दायित्व बन गया है कि वह प्राकृतिक संसाधनों का लाभ उठाकर और पर्यावरण को नुकसान पहुंचाकर प्रदूषण के मुद्दे को यथासंभव समझदारी से हल करे। प्रदूषण का मुख्य कारण वनों की कटाई है। अधिक से अधिक वृक्षारोपण कर अब आप अधिक से अधिक नियंत्रित हो सकते हैं। उसी तरह, हमें प्रदूषण को कम करने के लिए कई उपाय करने होंगे।

Pollution Essay in Hindi 100 Words

आज की दुनिया में सबसे पहले आपको यह जानने की जरूरत है कि किस कारण से प्रदूषण दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। और वातावरण बहुत असंतुलित होता जा रहा है। आज हमने अपने गंदे कपड़े धोकर, जानवरों को पानी में धोकर, साथ ही दो घरों से दूषित पानी को एक जगह तालाबों में फेंक कर और कचरा एक जगह डंप करके इस झील को प्रदूषित कर दिया है। अब उनका पानी बेहोश है। नहाने और पीने के लिए भी उपयुक्त नहीं है। इसका अस्तित्व आज भी नहीं बल्कि विलुप्त होने के कगार पर है।

                      Swachh Bharat Abhiyan Essay 250 Words in Hindi With Points

प्रदूषण के प्रकार


जल प्रदूषण।


घरों का दूषित पानी नदियों में बह जाता है। इसे नदियों में भी छोड़ा जाता है।कारखानों और औद्योगिक कचरे को भी नदियों में बहाया जाता है। कृषि में उपयुक्त उर्वरकों और कीटनाशकों से भूजल प्रदूषित होता है। डायरिया, पीलिया, टाइफाइड, हैजा आदि जैसे घातक रोग हमेशा जल प्रदूषण के कारण पैदा होते हैं।


वायु प्रदूषण।


आजकल, कार्बन मोनोऑक्साइड, कार्बन डाइऑक्साइड, ग्रीनहाउस गैसें, खतरनाक गैस कारखाने और सड़क वाहन बड़ी मात्रा में प्रदूषित गैस का उत्सर्जन कर रहे हैं। और यह प्रदूषित हवा पर्यावरण को काफी नुकसान पहुंचा रही है। इसका हमारे स्वास्थ्य पर बहुत बुरा असर पड़ रहा है। नतीजतन, अस्थमा और तपेदिक जैसी बीमारियां बढ़ रही हैं।


ध्वनि प्रदूषण।


मनुष्य की सुनने की क्षमता सीमित होती है। उपरोक्त सभी ध्वनियाँ उन्हें बहरा बनाने के लिए पर्याप्त हैं। ऑटोमोबाइल सेक्टर से निकलने वाली मशीनों की गड़गड़ाहट का हमारे स्वास्थ्य पर भारी असर पड़ता है। इसलिए, हमारे स्वास्थ्य के संपर्क में आने को ध्वनि प्रदूषण कहा जाता है। इससे पागलपन, चिड़चिड़ापन, बहरापन आदि बीमारियां हो सकती हैं।


भूमि प्रदूषण।


कृषि में उर्वरकों और कीटनाशकों के अत्यधिक उपयोग के कारण इन दिनों मृदा प्रदूषण बढ़ रहा है। कई कीटनाशकों के उपयोग के साथ-साथ प्रदूषित मिट्टी में उगाए गए भोजन के सेवन से मनुष्यों और अन्य जानवरों के स्वास्थ्य पर भारी नकारात्मक प्रभाव पड़ रहा है।

                                            Raksha Bandhan Essay 150 Words in Hindi

Pollution Essay in Hindi For Class 10

विभिन्न मानव जीवन में मन की शांति के लिए प्रदूषण सबसे महत्वपूर्ण और खतरनाक कारकों में से एक है। आज की बढ़ती हुई टेक्नोलॉजी की दुनिया में और टेक्नोलॉजी के कारण होने वाला प्रदूषण दुनिया में बहुत बड़े पैमाने पर हो रहा है। जैसे-जैसे मनुष्य आगे बढ़ता है, वैसे ही मनुष्य प्रदूषण भी करता है।

पर्यावरण प्रदूषण मानवता के लिए सबसे बड़ी घंटी है। आपने पर्यावरण के बारे में बहुत कुछ सुना होगा मानव जीवन जीने के लिए पर्यावरण हमारे लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण उपकरण है। आज का तेजी से बढ़ता औद्योगीकृत मानव जीवन तेजी से प्रदूषित होता जा रहा है। इस औद्योगीकरण के कारण, जो मानव जीवन के साथ-साथ पशु जीवन में भी वृद्धि हुई है, पशु जीवन और मानव जीवन बहुत प्रदूषित हो रहा है।

मानव जीवन के बारे में सोचें तो प्रदूषण इन दिनों हमारे लिए एक बड़ा खतरा है। आजकल अलग-अलग तरह से प्रदर्शनियां हो रही हैं। प्रदूषण के प्रकार विविध हैं। यह पहली बार है जब आपने उपरोक्त लेखों के साथ-साथ उपरोक्त अनुभाग में भी प्रदूषण के प्रकार देखे हैं।


Pollution Essay in Hindi for Class 7

प्रदूषण आजकल हमारे जीवन को तबाह करने की कगार पर है। प्रदर्शनी को मुख्य रूप से तीन भागों में विभाजित किया गया है अर्थात् वायु प्रदूषण ध्वनि प्रदूषण जल प्रदूषण इस प्रकार प्रदूषण के प्रकार। औद्योगिक क्षेत्रों में सड़कों के साथ-साथ कारखानों में चलने वाले वाहन इस धुएं के कारण धूल और वायु प्रदूषण के मुख्य स्रोत हैं।

दोनों प्रदूषण वाहनों, मशीनों और अन्य प्रकार के प्रदूषण के कारण होते हैं। जल प्रदूषण भी कारखानों के साथ-साथ कारखाने के कचरे, प्लास्टिक कचरे और नदियों और झीलों में फेंके गए कचरे से होने वाले जल प्रदूषण का एक प्रमुख कारण है।

                                                    Holi Essay in Hindi 250 Words

प्रदूषण के दुष्परिणाम


प्रदूषण का हमारे स्वास्थ्य पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है। प्रदूषण आपको लंबे समय तक बीमार कर सकता है। इससे आंखों की समस्या हो सकती है। इससे सिर की समस्या भी हो सकती है। बहरेपन की समस्या हो सकती है। इसी तरह प्रदूषण के कई दुष्प्रभाव भी हो सकते हैं।

वायु प्रदूषण कुछ लोगों के लिए अस्थमा का कारण बन सकता है। वायु प्रदूषण अस्थमा से पीड़ित लोगों के लिए बेहद हानिकारक है। साथ ही वायु प्रदूषण के कारण मधुमेह, मोटापा और हृदय रोग का खतरा हमेशा बढ़ता ही जा रहा है। अगर आपके शहरों में वायु प्रदूषण अधिक है, तो आपको कभी भी बाहर का कुछ भी नहीं खाना चाहिए। आपको हमेशा घर का बना खाना ही खाना चाहिए।

साथ ही यह बढ़ती स्वास्थ्य समस्या आपको दिल का दौरा पड़ने का कारण भी बन सकती है। इस प्रकार प्रदूषण कई गंभीर बीमारियों में से एक है जो हमें बहुत बड़े पैमाने पर हो सकती है। प्रदूषण इन दिनों बढ़ रहा है। वायु प्रदूषण आपके लिए सांस लेना बहुत मुश्किल बना सकता है।


 वायु प्रदूषण से एक स्वस्थ व्यक्ति भी बहुत बीमार हो सकता है। वायु प्रदूषण आज प्रदूषण के सबसे आम कारणों में से एक है। अगर आप वायु प्रदूषण के शिकार हैं तो आपके लिए वायु प्रदूषण से दूर रहना बहुत जरूरी है। इसके लिए आजकल अपने घर और अपने आस-पास पेड़-पौधे लगाना बहुत जरूरी है। यह भविष्य में वायु प्रदूषण और कई अन्य प्रकार के प्रदूषण को काफी हद तक कम कर सकता है।

Post a Comment

0 Comments